सम्पादकीय , बिल्ली के गले में घंटी बांधे कौन

कोरोना महामारी के दौरान देश की बड़ी आबादी बीमारी से तो तबाह थी ही उससे बड़ी…

सम्पादकीय-पंजाब की घटना पर चुप्पी मॉब लिंचिंग की पैरवी

पंजाब में गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी की दो घटनाओं के बाद दोनो आरोपियों की पीट…

सम्पादकीय- कोल्हान के साथ न्याय करे रेलवे

जमशेदपुर के सांसद विद्युत वरण ने देश के रेल मंत्री अश्विनी वैश्णव से मुलाकात कर रेल…

संपादकीय-हिन्दू त्योहारों को ही क्यों बनाया जाता है साफ्ट टारगेट

दीपावली त्योहार के समय पिछले कुछ सालों से ऐसे विवादित विज्ञापन जारी किये जा रहे हैं…

संपादकीय-स्वास्थ ढांचे में आमूलचूल परिवर्तन आवश्यक

देश की स्वास्थ व्यवस्था की पोल कोरोना काल में पूरी तरह खुल गई थी। उसके बाद…

संपादकीय-मंत्री जी उपहास न उड़ायें आम आदमी का

पेट्रोल डीजल की कीमते लगातार रिकार्ड बना रही है। लोग परेशान हैं। लेकिन यदि महंगाई और…

अमित खरे का प्रधानमंत्री का सलाहकार नियुक्त होना

अवकाश प्राप्त आईएएस अधिकारी अमित खरे के जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सलाहकार नियुक्त किये जाने…

यह कैसी पत्रकारिता

संयुक्त राष्ट्र महासभा में पाकिस्तान को खरी-खरी सुनाने वाली भारतीय विदेश सेवा की युवा अधिकारी स्नेहा…

मीडिया रिपोर्टिंग पर सुप्रीम कोर्ट के सवाल

जिस तरीके से मीडिया खासकर इलेक्ट्रानिक एवं डिजिटल मीडिया की रिपोर्टिंग हो रही है, वह सवालों…

जातीयता की जकडऩ से कौन नहीं निकलने देना चाहता देश को

जातीयता को एक ओर समाज को तोडऩे वाला बताया जाता है। ऊंच-नीच का भेदभाव पैदा करने…

Public ने देखा-झेला वो गलत, सरकार का बयान सही, मान लेने में हर्ज क्या!

संपादकीय आक्सीजन के अभाव में कोरोना से हुई मौतों के बारे में ज्यादा बतकुच्चन करने से…

आपातकाल का दर्द किसे याद, कौन भूला

25 जून 1975 को इंदिरा गांधी ने देश में आपातकाल लगाया था उसके बाद से हर…